छत्‍तीसगढ में कृषि विकास


     कृषि क्षेत्र के समग्र विकास के लिए राज्‍य शासन द्वारा प्रदेश में वर्ष 2011-12 से अलग से कृषि बजट प्रस्‍तुत किया जा रहा है, जिसमें कृषि यंत्र सेवा केन्‍द्र की स्‍थापना, श्री पद्धति से धान उत्‍पादन, राज्‍य पोषित सूक्ष्‍म सिंचाई योजना, वन भूमि अधिकार मान्‍यता अधिनियम 2006 के अंतर्गत वन भूमि आवंटितों को नि:शुल्‍क प्रमाणित बीज एवं उर्वरक मिनिकिट प्रदाय तथा भूमि सुधार हेतु हरी खाद का उपयोग, मृदा कार्ड योजना, जैविक खेती मिशन, परंपरागत कृषि विकास योजना, प्रधानमंत्री कृषक सिंचाई योजना, शाकम्भरी योजना आदि नवीन योजनाएं प्रारंभ की गई हैं। इसके अतिरिक्‍त कास्‍त लागत कम करने सहकारी बैंकों के माध्‍यम से वर्ष 2016 में 2883.41 करोड़ रूपये कृषि ऋण शून्य प्रतिशत ब्याज पर कृषकों को प्रदाय किया गया है एवं सिंचाई पंप कनेक्‍शन हेतु रूपये 75,000/- अनुदान, सिचांई पंप में मीटर किराया एवं फिक्‍स चार्ज समाप्‍त करने का प्रावधान तथा नये उर्वरक गोदाम निर्माण, मिटटी परीक्षण प्रयोगशालाओं की स्थापना, शहीद वीरनारायण सिंह बहुद्देशीय कृषक सेवा केंद्र निर्माण शामिल किया गया है। राज्‍य शासन द्वारा किए गए प्रयासों एवं कृषकों की मेहनत के फलस्‍वरूप वर्ष 2016-17 में लगभग 110 लाख मीट्रिक टन धान उत्‍पादन होने का अनुमान है।

      राष्ट्रीय स्तर पर धान उत्पादन केवल 3 प्रतिशत है जबकि छत्तीसगढ़ में यह 39 प्रतिशत की दर से बढ़ोतरी हुई है तथा विभागीय योजनाओं में लाभान्वित कृषकों में 119 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है जिनकी संख्या 10,40,122 कृषक है। इस वर्ष राज्य में नलकूपों की संख्या पूर्व वर्ष की संख्या 67839 से बढ़कर 72,552 होने से अतिरिक्त सिंचित क्षेत्र 1,42,934 हेक्टेयर से 1,56,987 हेक्टेयर हो गयी है।

राज्‍य एवं राष्‍ट्र के प्रमुख फसलों के औसत उत्‍पादन का तुलनात्‍मक विवरण वर्ष 2013-14                                                                                                               इकाई - कि.ग्रा./हेक्‍टेयर

क्रमांक

फसल

छत्‍तीसगढ प्रदेश

राष्‍ट्रीय

1

चॉवल

1859 2424

2

गेहूं

1358 3075

3

मक्‍का

2061 2583

4

चना

771 967

5

अरहर

612 849

6

सोयाबीन

877 983

7

राई-सरसों

558 1188

  कृषि जलवायु का क्षेत्र                                                         छत्‍तीसगढ परिदृश्‍य

छत्‍तीसगढ् प्रदेश को जलवायु के आधार के आधार पर तीन भागों में विभक्‍त किया गया है।

  • भौगोलिक क्षेत्र         - 137.90 लाख हेक्टर    (4.15% देश का)

  • निरा क्षेत्र              -   46.81 लाख हेक्टर    (35% अपने भौगोलिक क्षेत्र का)

  • 57% हल्की से मध्यम भूमि

  • वन का क्षेत्र            - 63.15 लाख हेक्टर (46% अपने भौगोलिक क्षेत्र का)

  • औसत वर्षा            - 1296.7  मि.मी.

  • निरा सिंचित क्षेत्र       - 14.68 लाख हे. (30%)

  • कृषक परिवार (संख्‍या) - 37.46 लाख     (32%  अनु.जनजाति 12% अनु.जाति)

  • 55% सीमांत कृषक    - 19% भूमि

  • 22% लघु कृषक       - 23% भूमि

  • 23% अन्य कृषक      - 58% भूमि

  • सल  सघनता         - 137%
     

                        स्रोतवार सिंचित क्षेत्र                                                                   इकाई-लाख हेक्टर

स्रोत वर्ष 2014-15 अंत तक की स्थिति
कृषि प्रतिशत
नहर 8.00 69%
तालाब 0.52 4%
नलकूप 2.23 17%
कूप 0.35 3%
अन्‍य 0.84 7%
योग 12.82 100%
कुल सिंचित क्षेत्र 29.36 -
Back